एक फ़क़ीर (સબક) – With courtesy from FB

एक फ़क़ीर

Faqeerएक फ़क़ीर था उसके दोनों हाथ नहीं थे वो आवाज़ देकर , सर झुकाकर पैसा माँगता था। एक बार मैंने उस फ़क़ीर से पूछा – ” पैसे तो माँग लेते हो , रोटी कैसे खाते हो ? उसने बताया – जब शाम हो जाती है तो उस नानबाई को पुकारता हूँ , ‘ ओ मुन्ना आके पैसे ले जा और रोटियाँ दे जा वह भीख के पैसे उठा ले जाता है , रोटियाँ दे जाता है। मैंने पूछा – ” खाते कैसे हो बिना हाथों के ? वह बोला – खुद तो खा नहीं सकता आने-जाने वालों को आवाज़ देता हूँ ओ जानेवालों ओ अल्लाह के बन्दो अल्लाह तुम्हें सलामत रखे , मेरे ऊपर मेहरबानी करो मुझे रोटी खिला दो मेरे हाथ नहीं हैं ‘ हर कोई तो सुनता नहीं , लेकिन किसी-किसी को मुझ ग़रीब पर तरस आ जाता है। वह अल्लाह का प्यारा मेरे पास आ बैठता है। रोटियाँ तोड़कर मेरे मुँह में डालता जाता है , मैं खा लेता हूँ। ” सुनकर मेरा दिल भर आया। मैंने पूछा – पानी कैसे पीते हो ? उसने बताया – इस घड़े को टांग के सहारे झुका देता हूँ तो प्याला भर जाता है। तब जानवरों की तरह झुककर पानी पी लेता हूँ। मैंने कहा – यहाँ मच्छर बहुत हैं। जब मच्छर काटते हैं तो क्या करते हो ? वह बोला – तब जिस्म को ज़मीन पर रगड़ता हूँ। पानी से निकली मछली की तरह लोटता और तड़पता हूँ हाय ! सिर्फ़ दो हाथ न होने से कितनी तकलीफ होती है ! अरे भाइयों , इस जिस्म की बुराई मत करो ! यह तो अल्लाह का दिया हुआ अनमोल तोहफा है ! जिस्म का हर हिस्सा इतना कीमती है कि दुनियाँ का कोई भी ख़ज़ाना उसकी क़ीमत नहीं चुका सकता लेकिन यह ज़रूर सोचिए कि यह जिस्म हम सबको मिला किस लिए है इसका सही इस्तेमाल कीजिये याद रहे कि ये आँखे गुनाह को देखने के लिए नहीं मिलीं। कान बुरी बाते सुनने के लिए नहीं मिले। हाथ दूसरों का गला दबाने के लिए नहीं मिले। यह दिल भी तकब्बुर करने या नफ्स की ख्वाहिशें पूरी को नहीं मिला। ये आँखे अल्लाह की किताब क़ुरान पढ़ने के लिये मिली है जो हमें हमारे नबी के बताये रास्ते पर चलना सिखाये। ये हाथ अच्छा काम करने को मिले हैं। ये पैर नेक रास्तों पर चलने को मिले हैं ये कान अच्छी बात सुनने को मिले है जिसमे अल्लाह की शान व हमारे नबी की तारीफ सुनी जाती हो। ये जुबान अल्लाह की हम्दो सना करने को मिली है। ये दिल अल्लाह और उसके रसूल से मुहब्बत करने को मिला है..

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s